शैलेन्द्र चौधरी

राजेंद्र नगर डीडी पुरम स्थित शहीद पंकज अरोरा स्मारक पर पंजाबी महासभा बरेली के पदाधिकारी महिलाएं व पुरुष बच्चे सभी एकत्रित थे जिन्होंने 1947 बंटवारे के वक्त पाकिस्तान द्वारा हजारों सिखों के नरसंहार की घटना के विषय में घोर निंदा की पंजाबी महासभा के गुलशन आनंद ने कहा कि हमारे बड़े बुजुर्ग जो बंटवारे के वक्त निर्दोष होते हुए भी मारे गए सब को श्रद्धांजलि देने के लिए हम लोग एकत्रित हुए हैं जबकि सरकार ने बंटवारे के वक्त कहा था कि जो जहां का है वह वहां रहेगा जिसकी जितनी जमीन है उसको उतनी जमीन मिलेगी लेकिन तब की सरकार ने अपनी मतलब परस्ती के लिए भारतवर्ष के दो टुकड़े कर हिंदुस्तान पाकिस्तान बना दिया जिसके परिणाम आज लोगों को भुगतने पड़ रहे हैं हजारों लाखों की संख्या में लोग मारे गए जिनका रीति रिवाज के अनुसार अंतिम संस्कार तक ना हो पाया हम उन सब शहीद हुए बुजुर्ग मां-बाप बच्चे महिलाओं का नमन करते हुए श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं शहीद पंकज अरोड़ा स्मारक पर मोमबत्ती जलाकर पंजाबी महासभा बरेली के संजीत साहनी कमल अरोरा गुलशन आनंद संजीव गुलाटी राजीव सचदेवा सिम्मी आनंद नेहा साहनी सुमन साहनी बलदेव नागपाल आदि लोगों ने श्रद्धांजलि अर्पित की प्रिंस सोठी ने संचालन किया